आज उमाजी का मन बालकनी में  पड़े झूले से उठने को बिलकुल नहीं कर रहा था. अभी कल ही तो शिखर के घर से वापस…